Few Images of MBBL:2016 Conference organised by PHD chamber of Commerce & Industry at New Delhi on 8th July’16

My presentation in ECI conference on 16th Nov’15

Theme of conference was “Make in India: Role of Engineers & Technologists”. It was organised by Engineering Council of India(ECI) at India International Center , New Delhi on 16th November 2015. I was one of the keynote speaker. I spoke on preparedness of Engineers & Technologists to take the challenges. This presentation is available in pdf format. You may like go through it . I am expecting large number of comments on it. So go ahead .16th NOV ECI presentation_MM – final

बड़े दिनों बाद..

ज बड़े दिनों बाद यूँ ही खाली बैठा हूँ और वेब पर हिंदी में टाइप करना सीखा हैं/ नया नया शौक लगा हें/ लिखलिख कर ट्विटर,फेसबुक और अन्य सोशल साइट्स पर पोस्ट कर रहा हूँ/ तो सोचा ब्लॉग पर भी हिंदी में पोस्ट करूँ/ सुबह के तीन-चार घंटे गौशाला में बीत गए/ लौटकर  आया तो हिंदी टाइप सीखी और लिखने बैठ गया/ आज मोर्निंग वाक पर भी नहीं गया / अब तीन बज गए हैं और में नहाया भी नहीं हूँ/ लकिन लिखेने में मजा बड़ा आ रहा हैं/ सोचता हूँ अब शाम को ही नहाऊंगा, तब तक कुछ लिख ही लेता हूँ/ घर पर भी कोई नहीं हैं/ बच्चे हॉस्टल में हैं, भारती मार्किट गयी हे और में अकेला हूँ/ मौसम आज अचानक बदल गया हे / बादल हें और बूंदा बांदी है/ मार्च का महिना समाप्ति पर है गर्मीं भी लगभग आ ही गयी है पर ऐसे में बारिश लौट लौट कर आ रही हे / लगता हैं जैसे बारिस भी इस बार बहुत ढीट हो गयी है/ बाहर पेड़ों कें पत्ते टूट टूट कट ज़मीं पर फैले हैं/ मेरें घर कें एकदम सामने एक नीम, एक गुलमोहर, एक अमलतास, और एक जकरांदा का पेड़ हें/ सामने ही पार्क हैं, उसमें भी बहुत से पेड़ हैं / आजकल के मौसम में जरा सी भी हवा चलती हे तो पेड़ो के पत्ते सारी सड़क और पार्क में बिछ जाते हैं/ सुबह सुबह जब में पार्क में वाक करने जाता हूँ तो उन पत्तो के बीच रास्ता बना कर चलने में बड़ा मज़ा आता है/ हवा से पत्तो की सरसराहट और पैरों के नीचे आते पत्तों की आवाज बेहद अच्छी लगती हें/ दोपहर में अगर तेज हवा चले तो पत्ते उड़कर एक जगह से दूसरी जगह पहुँच जाते हें , पर अक्सर सुबह जमादार झाड़ू लगा कर सड़क साफ़ कर देता हें और पत्ते इकठा कर के आग लगा देता है/  क्या कहूँ एक तो आग लगा कर प्रदुषण करता है और एक सुंदर अहसास से मुझे वंचित कर देता हैं/ सोचता कल सुबह वोह न ही आये तो अच्छा हैं/  मुझे नहीं लगता लोग मेरी इस बात से सहमत होंगे- पर में तो में हूँ और यह मेरा बेतरतीब विचार हें/

Life is like long run

Few years (5 to be precise) ago I never imagined that I will start doing regular brisk walk @ 5 km in 45 minutes or so and then gradually one day will start running on regular basis. Now participating in organized run like Airtel Delhi Half Marathon on 15th December 2013 seems like a sweet dream. In Oct’13 I decided to run Half Marathon 21 Km. before D-day I had completed 14 km in 1 hr 50 minutes. Practicing for long runs in City like NOIDA or Delhi is not that easy. Roads are unsafe as well as there is  lot of pollution and noise. Running early in the morning say at around 5 AM makes it further difficult. I ran sometime on roads but mostly in the park in front of my house. I registered myself for half marathon on the last day of registration almost at the last hour. I somehow wanted to complete it in the stipulated time of 3 hr. I don’t know what happened on the 15th December morning I simply managed to complete the run in 2 hr 26 minutes and 41 second. My overall rank & rank in my age group is also very encouraging. I completed first five km @10.2 km/hr and overall speed was 8.6km/hr.  Running with thousand of people from all walk of life and further completing it with reasonably good timing  was a great feeling.

In my view long running is just like life. Just keep going with determination and courage. There is no need to hurry either in long race or in life. Every small step will take you to your destination. Further enjoy every step. Often during running I get time to think about my daily routine, complex issues which I am facing in professional life and sometime I get brilliant solutions to them.  After completing the race (I am not mentioning my age) I thought next time I will try with much better aim. I hope to live life-like a long run. Just a Random thought.Image